Saturday, June 29, 2019

Burke Hedges



आज  दो  चीजों  की बड़ी सख्त जरुरत है

पहली , अमीरो को यह पता चलना  चाहिए की गरीब लोग कैसे जिंदगी  जीते है और  दूसरी , गरीबो को यह पता चलना चाहिए की आमिर लोग कैसे काम करते है 

                                     -  जॉन फ़ॉस्टर 


व्यवसाय सबंधी एक कहानी मुझे बड़ी पसंद है | अपनी आर्थिक तंगी से परेशान एक अधेड़ मैनेजर  किसी वित्तीय विशेषज्ञ की सलाह लेने का फैसला करता है | 
मैनेजर एक बहुत सम्मानित वित्तीय सलाहकार से opointment  लेता है , जिसका ऑफिस पार्क  एवन्यू की एक भव्य इमारत में है | 

मैनेजर जैसे ही सलाहकार का सुसज्जित रिसेप्शन रूम में दाखिल होता है, चकरा  जाता है | वहाँ कोई रिसेप्शनिस्ट नहीं है | बस सामने दो दरवाजे है | पर लिखा है " कर्मचारी " और दूसरे पर लिखा है "सेल्फ-एम्प्लॉयड | 

चूँकि मैनेजर कर्मचारी है , इसलिए वह "कर्मचारी" वाले दरवाजे को चुनता है | एक बार फिर दो दरवाजे उसका  स्वागत करते है | एक पर लिखा है , " आमदनी ४०,०००  डॉलर से कम " और दूसरे पर लिखा है " आमदनी ४०,००० डॉलर  से ज्यादा |" 

मैनेजर की आमदनी  ४०,०००  डॉलर से कम है ' इसलिए वह पहले वाले दरबाजे को चुनता है | एक बार फिर उसके  सामने दो दरवाजे आ जाते है | बाएं दरवाजे पर लिखा है, " साल में २,००० डॉलर से ज्यादा बचत ," और  दाएं दरवाजे पर लिखा है, " साल में २,००० डॉलर से  कम  बचत |" 

मैनेजर के बचत खाते मैं सिर्फ एक हजार डॉलर ही पड़े है , इसलिए वह दाएं  दरवाजे को चुनकर उसके भीतर  चला जाता है - वह दोबारा पार्क एवन्यू की सड़क पर पहुँच जाता है | 

समान दरवाजे समान परिणामो की और ले जाता है 

बड़ी ही दुखद , लेकिन स्पष्ट बात है की इस कहानी का मैनेजर अपनी लिक से कभी बाहर नहीं निकल पायेगा , जब तक की वह अलग दरवाजे खोलने का विकल्प न चुने | कहानी का सबक यह है की ज्यादातर लोग उसी मैनेजर की तरह होते है - वे जिंदगी में ऐसे दरवाजे खोलने का फैसला करते है , जो उन्हे घुमा-फिरकर  वही पहुँचा  देते है , जहाँ से उन्होंने शुरू किया था | 

अलग परिणाम पाने का एकलौता तरीका यही है की लोग अलग दरवाजे खोलने का चुनाव करें  है न ? जैसे मेरे एक मार्गदर्शक  कहा करते थे | " अगर तुम वही करते रहो , जो हमेशा करते आये हो , तो तुम्हे वही मिलता रहेगा , जो हमेशा मिलता रहा है |" 


नोट :-  ये कहानी बर्क हेगेस की बुक कॉपीकैट मार्केटिंग  १०१  से ली है 










No comments:

Post a Comment